संदेश

March, 2016 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

जब भी .....!

जब भी नजर पड़ती है
       मुस्कुराते फूलों पर               तो लगता है जैसे तुम               हंसी हो – छुपा कर खुद को –मुझ से                      इन फूलों के  बीच                            और  तुम्हारे चेहरे की रंगत                                   उभर आती है फूलों की शक्ल में !
जब भी रातों को        नजर पड़ती है आसमान में
              तो तुम चाँद बन – मेरी पहुँच से दूर                      बहूत दूर –मुस्कुराती हुई कहती हो                            “ मुझे छु लो !” और जब भी हताश मैं
       बैठ जाता हूँ जमीं पर               तो तुम जुगनू बन                      चली आती हो मेरे पास                            और आँखें झपकती                                   नन्ही अबोध बच्ची सी
                                          मुझे निहारती हो अपलक ....!
और जब देखता हूँ
       खुद पे गिरी शबनम को
              तो लगता है तुम्हारी भीगी हुई जुल्फों से
                     गिरी हों चंद बूंदें
                           और उसका गीलापन
                                   मेरे जिस्म से लिपट जाता …

बेच डालो - OLX

बेच डालो -OLX   .... क्या बेच पाओगे मेरा कीमती सामान?
जिसकी कोई  कीमत – कोई ख़रीददार
ढूंड पाने  की सारी तिगडम
ले चुकी हैं कई किताबों का  रूप
और भर चुके है सारे
वाचनालय – पुस्तकालय – मुद्रणालय !
परन्तु नहीं मिला - एक वो अकेला शख्स
जो खरीद सके..... मेरा सामान
OLX !
क्या तुम लगाओगे मेरे सामान पर
"For Sale " का राजसी Label ....
क्या दिला पाओगे उसे कीमत का मूल्य ?
मांग और पूर्ति की धारा के बीच
अपना अस्तित्व ढूंडती  ‘ईमानदारी ‘ जोहती है  बाट नए ‘मास्लो’ की
जो शामिल कर सके
उसे आवश्यकताओं की नयी list में !
परन्तु हर बार
नया नियम खा जाता  है
पुराने नियम  की चटनी
मांग की रोटी के बीच ....!
OLX ! काश तुम बेच सकते
मेरा सामान
चंद कागजी नोटों के बदले
जिसपे चस्पा गांधी
बन गए तुष्टिकरण  की नयी परिभाषा ...
राजनैतिक गलियारों के Red Carpet पे
कागज़ी मुस्कान ओढ़कर !
ओ OLX  !
क्या बेच पाओगे मेरा कीमती सामान? बताओ ना ....!