देवि हे स्वतंत्रते......!

देवि हे स्वतंत्रते
शत-शत तुम्हें नमन!
खुशहाल हो, भारत सदा
बने शान्ति का चमन!
देवि हे ............................!

रहे ज्ञान दीप जलता
फैले सदा प्रकाश
नित नवीन ज्ञान का
होता रहे विकास!
हो धान्य-धन से पूर्ण
ये भारत मेरा वतन!
देवि हे ..................!

सदबुद्धि दे हे भारती
मांगूं यही वरदान
मेरे स्वदेश का हर
प्राणी बने महान
झूमे ख़ुशी से साथ
तिरंगे के ये गगन!
देवि हे स्वतंत्रते
शत-शत तुम्हें नमन!
1 टिप्पणी

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

कालिन्दी हूँ मैं।

बेच डालो - OLX

जब भी .....!