गर्म लावा

ठन्डे लोहे के गर्भ से,
दहकता गर्म लावा 
बाहर निकलकर बिंध जाता 
है ह्रदय को 
और धारा रक्त की है फ़ैल जाती
राजपथ पर
सुनसान अँधेरी रात को,
एक मानव फडफडाता
है जमी पर
और दूजा हँस के
चल देता है अपनी राह को
दूर मानवता खडी थी
बदहवास
और जालिम चीटियां अब
चढ़ गयी हैं लाश पर........
एक टिप्पणी भेजें

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

कालिन्दी हूँ मैं।

बेच डालो - OLX

जब भी .....!