मंगलवार, 5 मई 2015

क़यामत

मैं , हर रात
ख़ुदकुशी  करता हूँ
और भोर तक
ओढ़े रहता हूँ ,
मौत की ख़ामोशी का लबादा ।
और सुबह जब
ये लबादा उतार
मैं जागता हूँ  नींद से
तो लगता है की
क़यामत
आ चुकी है मेरे शहर में
और मुझ जैसे
कई मुर्दे -निकल आये हैं
अपनी कब्रों  से ---सड़कों पर । 
एक टिप्पणी भेजें

20150927 0001