शुक्रवार, 8 मई 2015

"मैं जनवादी कवि हूँ । ---- जनता का कवि हूँ। "

मैं जनवादी कवि हूँ  ।  ---- जनता का कवि हूँ।
ये बात तुम्हें ज्ञात होगी,
जब कुछ दिन पूर्व
मैंने एक पुस्तक का
भव्य विमोचन
जनवादी नेता द्वारा करवाया था ।
उसमे उपस्थित भीड़
जो नेता के चंदे से आई थी
हर अखबार की
सुर्ख़ियों पर छायी थी!
जिसके तले  दब मरी थी
एक गरीब , लाचार
पद-दलित साहित्यकार की मौत,
क्योकि मैं जनवादी कवि हूँ । ----- जनता का कवि हूँ ।
मेरी कविताओं में
कहीं भूख नहीं होती,
न ही होती है
ताजमहल के पीछे बसी
मलिन बस्ती की जिजिविषा
और न ही
तोड़ती पत्थर की कहानी |
मैंने जब भी लिखा है
विलायती कारों  की चमचमाती चमक
और विदेशी मेमो के
अन्तःवस्त्रों से आती
विदेशी महक का स्तुतिगान
जो जनता को मोहित करता है
मेरे शब्दों के मायाजाल में फांस कर !
मैंने लिखा है
नेताओं की धूमिल छवि  का
चमकीला चेहरा
जो उनके सफ़ेद झकझक
कुर्ते के कारण
चमकता है काली स्याह रातों में ।
हाँ ! मैं जनवादी कवि हूँ । जनता का कवि हूँ ।
भूख , बेबसी , अत्याचार ,
अन्याय व बलात्कार ,
ये सब हो चुके हैं बौने
जनता के लिए
इसीलिए मैंने
इन्हें  छोड़ दिया
 कलम से कचोटना
क्योकि इनकी टीस
मवाद बन रिसती है पूरे देश में
इसलिए अब मैं लिखता हूँ
सिने - तारिकाओं के
हर रोज बदलते प्रेम प्रसंग
और खींसे  निपोरते नेताओं का
गौरवगान
ताकि पा सकूँ सम्मान
जनवादी कवि होने का
साहित्य को ढोने का ।
क्योकि मैं जनवादी कवि हूँ ।
सिर्फ और सिर्फ
जनता का कवि हूँ ।

एक टिप्पणी भेजें

20150927 0001